जो कभी मेरी उदासी की वजह पूछा करता था अब उसको मेरे रोने 😭 से भी फर्क नहीं पढ़ता।😢 💔 😒

तेरे रोज के वादों पे मर जायेंगे हम,
यूँ ही गुजरी तो गुजर जायेंगे हम।😢 💔 😒

आ जाओ लहराती इठलाती हुई,
तुम इन हवाओं की तरह! मौसम ये बहुत बेदर्द है,
तुझे मेरे दिल से पुकारा है!!😢 😭

ज़नाज़ा इसलिए भारी था उस गरीब का ,.,
वो अपने सारे अरमान साथ लेकर गया था ,.,!

वो बड़े ताज्जुब से पूछ बैठा मेरे गम की वजह..
फिर हल्का सा मुस्कराया, और कहा, मोहब्बत की थी ना… ??😢 😭

सुना है काफी पढ़ लिख गए हो तुम,
कभी वो बी पढ़ो जो हम कह नहीं पाते !!😢 😭

इतनी हिम्मत तो नहीं किसी को हाल –ये –दिल सुना सके ,
बस जिसके लिये उदास है बो महसूस करे तो काफी है …!!!😢 💔 😒

हर किसी में तुझे पाने की कोशिश की बस एक तुझे न पा सकने के बाद |

तेरी जगह आज भी कोई नहीं ले सकता ,
पता नहीं वजह तेरी खूबी है या मेरी कमी..!!😢 😭

ये अजीब खेल चल रहा है मेरी ज़िन्दगी में जहाँ याद का लफ्ज़ आ जाए ,
वहां तुम याद आ जाते हो।

दर्द 💔तो बहुत है दिल में
पर दिखा नही सकते,
करते है मोहब्बत तुमसे
पर बता नही सकते।😢 😭

बस एक बार निकाल दो इस इश्क से ऐ खुदा ,
फिर जब तक जियेंगे कोई खता न करेंगे …

गुलाम बनकर जिओगे तो.
कुत्ता समजकर लात मारेगी तुम्हे ये दुनिया
नवाब बनकर जिओगे तो,
सलाम ठोकेगी ये दुनिया….
दम कपड़ो में नहीं,
जिगर में रखो….
बात अगर कपड़ो में होती तो,
सफ़ेद कफ़न में,
लिपटा हुआ मुर्दा भी सुल्तान मिर्ज़ा होता

अल्फ़ाज़ के कुछ तो कंकर फ़ेंको,
यहाँ झील सी गहरी ख़ामोशी है।😢 😭

झुठा नहीं तू …. मुझको पता है….. बस थोड़ा रुठा सा है …… 💔

कैसे करूँ मैं साबित…
कि तुम याद बहुत आते हो…
एहसास तुम समझते नही…
और अदाएं हमे आती नहीं…😢 💔 😒

सोने के जेवर ओर हमारे तेवर
लोगो को अक्सर बहोत मेंहगे पडते हे.😢 😭

तेरी ख़ुशी की खातिर मैंने कितने ग़म छिपाए
अगर मैं हर बार रोता 😭 तो तेरा शहर डूब जाता😢 💔 😒

ये बात और है के तक़दीर लिपट के रोई वरना ! बाज़ू तो हमनें तुम्हे देख कर ही फैलाए थे !!

उनकी दुनिया में हम जैसे हजारो हैं !
हम ही पागल है जो उसे पाकर मगरूर हो गए !!

मत पूछो कितनी मोहब्बत है मुझे उनसे !
बारिश की बूँद भी अगर उन्हें छू ले.
तो दिल में आग लगजाती है …..😢 😭

अब जिस के जी में आये वही पाये रौशनी;
हम ने तो दिल जला कर सरेआम रख दिया।

फ़ासले तो बढ़ा रहे हो मगर इतना याद रखना,
मुहब्बत बार बार इंसान पर मेहरबान नहीं होती.

दुनिया बहुत मतलबी है,
साथ कोई क्यों देगा,
मुफ्त का यहाँ कफ़न नहीं मिलता,
तो बिना गम के प्यार कौन देगा।😢 💔 😒

आज मुझे चोट लगी तो खून लाल ही निकला,
मैने सोचा था यह भी मेरे महबूब की तरह बदल गया होगा??

पता नही😏 कब जाएगी 🌅तेरी लापरवाही की आदत🙆🏻…..पागल👋 कुछ तो सम्भाल कर रखती😔 मुझे भी खो दिया…

याददाश्त की दवा बताने में सारी दुनिया लगी है,
तुमसे बन सके तो तुम हमें भूलने की दवा बता दो..

कहाँ पूरी होती है दिल की सारी ख्वाइशें
कि बारिश भी हो ,
यार भी हो ….
और पास भी हो😢 😭

चलो अब जाने भी दो….क्या करोगे दास्तां सुनकर,,, ख़ामोशी तुम समझोगे नही….और बयां हमसे होगा नही !!

रात भर जागता हूँ एक एसे सख्श की खातिर…
जिसको दिन के उजाले मे भी मेरी याद नही आती..😢 💔 😒

जिंदगी के किसी मोड़ पर अगर वो लौट भी आये तो क्या है,
वो लम्हात, वो जज्बात, वो अंदाज, तो ना अब लौटेंगे कभी…
क्योंकि हर किसी के नसीब में कहाँ लिखी हैं चाहतें,
कुछ लोग दुनिया में आते हैं सिर्फ बदनाम करने के लिए…..

मजबूरियॉ ओढ के निकलता हूं घर से आज कल..
वरना शौक तो आज भी है बारिशों में भीगनें का.!!😢 💔 😒

बेवफा लोग बढ़ रहे हैं धीरे धीरे,
इक शहर अब इनका भी होना चाहिए…

तुम्हारे शहर का मौसम बड़ा सुहाना लगे..
मैं एक शाम चुरा लूँ अगर बुरा न लगे..!!!

गुनाह करके सजा से डरते है, ज़हर पी के दवा से डरते है. दुश्मनो के सितम का खौफ नहीं हमे, हम तो दोस्तों के खफा होने से डरते है.😢 💔 😒

अजब सी खामोशी हैं मेरे अंदर तेरे जाने के बाद….
मै चीखती हु, चिल्लाती हु मगर शोर नहीं होता!!

सुना है काफी पढ़ लिख गए हो तुम,
कभी वो बी पढ़ो जो हम कह नहीं पाते !!😢 😭

वो जा रही थी और मैं खामोश खड़ा देखता रहा,
क्योंकि सुना था कि पीछे से आवाज़ नहीं देते..!😢 😭

खुल जाता है तेरी यादों का बाजार सुबह सुबह
और हम उसी रौनक में पूरा दिन गुजार देते है..😢 😭

ज़िस्म से मेरे तड़पता दिल कोई तो खींच लो​,
मैं बगैर इसके भी जी लूँगा मुझे अब ​ये यकीन ​है।😢 😭

सीख जाओ वक्त पर किसी की चाहत की कदर करना..
कहीं कोई थक ना जाये तुम्हें एहसास दिलाते दिलाते..😢 💔 😒

इरादा कतल का था तो मेरा सिर कलम कर देते ,
क्यों इश्क़ में डाल कर तूने मेरी हर साँस पर मौत लिखदी।😢 💔 😒

क्यूँ हर बात में कोसते हो तुम लोग नसीब को,
क्या नसीब ने कहा था की मोहब्बत कर लो !!

जिंदगी का खेल शतरंज से भी मज़ेदार निकला….!
मैं हारा भी तो अपनी हीं रानी से…..😢 😭

लिखना तो था के हम खुश है उसके बिना
मगर आसू निकल पड़े कलम उठाने से पहले😢 😭

क्यूँ दुनिया वाले मोहब्बत को खुदा का दर्ज़ा देते हैं,
हमने आज तक नहीं सुना कि खुदा ने बेवफाई की हो…!!!😢 😭

मेरी तन्हाई पुछती हे मुझसे,
बता आज कौन बिछड गया तुझसे,
क्या बताऊँ की मेरा कोई साथी ही नही,
शायद आज जुदा हो गया हुँ खुद से.!

तू हजार बार रुठेगी फिर भी तुझे मना लूँगा …
तुझसे प्यार किया हे कोई गुनाह नही,
जो तुझसे दूर होकर खुद को सजा दूँगा😢 😭

यूँ तो हादसों में गुजरी है हमारी ज़िंदगी,
हादसा ये भी कम नहीं कि हमें मौत ना मिली !!😢 😭

ना प्यार कम हुआ है ना ही प्यार का अहेसास,
बस उसके बिना जिन्दगी काटने की आदत हो गई है !!😢 😭

आज के बाद ये रात और तेरी बात नहीं होगी💔

बड़ी दूर चले आए थे तेरे झूंठे वादों को सच्चा मान,
मुहब्बत के पंखों से दिखाउंगा अब तुझे मैं नफरत की उड़ान.😢 💔 😒

जब प्यार किसी से होता है,
हर दर्द 💔दवा बन जाता है।
क्या चीज मुहब्बत होती है,
एक शख्स खुदा बन जाता है। 😢 😭

वो गुस्से में तेरा लब से मेरे सिगरेट हटा देना उसी दिलकश अदा की याद में अब कश लगाते हैं !!

नफरतों के जहान में हमको
प्यार की बस्तियां बसानी हैं,
दूर रहना कोई कमाल नहीं,
पास आओ तो कोई बात बने।😢 😭

क्या करियेगा पहचान कर इन चेहरों को अब तो अपना चेहरा भी अजनबी सा नजर आता है !!

सिर्फ मोहब्बत ही ऐसा खेल है..
जो सिख जाता है वही हार जाता है।😢 😭

बिखरा वज़ूद, टूटे ख़्वाब,
सुलगती तन्हाईयाँ ….
कितने हसींन तोहफे दे जाती है ये अधूरी मोहब्बत😢 😭

मोहब्बत तो दिल से की थी,
दिमाग उसने लगा लिया….
दिल तोड दिया मेरा उसने और इल्जाम मुझपर लगा दिया😢 💔 😒

तेरे ना होने से बस इतनी सी कमी रहती है
मै लाख मुस्कुराउ आखो मे नमी सी रहती है.😢 😭